सेनेटरी पैड परीक्षण Read In English

आईएस 5405 के अनुसार सैनिटरी पैड परीक्षण:

सैनिटरी पैड महिलाये मासिक धर्म में उपयोग करती है I ये पैड विशिष्ट घंटे के लिए लीक किए बिना रक्त के निर्वहन को अवशोषित करते हैं। यह केवल एक समय के उपयोग के लिए होता है, इसके बाद इनका निपटान करना होता है। वे पुनः उपयोग के लिए नहीं है I

सैनिटरी पैड आज महिलाओं के जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं। हालांकि वे मासिक धर्म के साथ आने वाले दर्द को कम नहीं कर सकते हैं, लेकिन वे निश्चित रूप से योनि स्राव से जुड़े असुविधाओं को कम करते हैं। महिलाओं के लिए महत्वपूर्ण है कि सैनिटरी पैडो को उत्कृष्ट गुणवत्ता का होना चाहिए, ताकि उन्हें रिसाव और असुविधा से निपटने की जरूरत न हो।

सेनेटरी पैड के लिए गुणवत्ता मानक:

सैनिटरी पैड की अच्छी गुणवत्ता सुनिश्चित करने के लिए, भारतीय मानक ब्यूरो द्वारा सख्त विनिर्देश तैयार किए गए हैं। आईएस 5405 में मानदंडों और नियमों का विस्तृत विवरण है जिसका सैनिटरी पैड निर्माताओ कों पालन करना होता है।

सैनिटरी पैड की गुणवत्ता का परीक्षण करने के लिए पैरामीटर

  • पैड में इस्तेमाल होने वाली सामग्री का परीक्षण:

हर सैनिटरी पैड में सेलूलोज पल्प, सेल्यूलोज अस्तर, ऊतकों और कपास जैसे शोषक भराव होते हैं। इन भरावों को यह सुनिश्चित करने के लिए जांच की जाती है कि इनमे गांठ, तेल के धब्बे, गंदगी और विदेशी संदूषक शामिल हैं।

शोषक भराव का कवर वह वस्तु है जो रिसाव को इसमें प्रवाहित होने की अनुमति देती है। यह झरझरा होना चाहिएI अधिकतर कपास की आस्तीन, जाली और बिना बुने हुए कपडे का कवर बनाने में प्रयोग किया जाता है।उन्हें साफ और स्वच्छ होना चाहिएI

  • आकार का टेस्ट:

सभी महिलाओं को एक ही आकार के सैनिटरी पैड की आवश्यकता नहीं है। जो महिलाएं लम्बी और व्यापक हैं उन्हें बड़े पैड की आवश्यकता होती हैं जबकि खूबसूरत महिलाओं की अपेक्षा छोटी पैड क होती है। जो महिलाए भारी प्रवाह का अनुभव करते हैं उनमें अन्य की तुलना में बड़े पैड की आवश्यकता होती है। यह 3 तरीके की विविधता में उपलब्ध है:- नियमित, विशाल और ज्यादा बड़ा ।पैड के आकार का परीक्षण करने के लिए एक आकार के 10 पैड का नमूना मापा जाता है और उनकी औसत गणना की जाती है। यदि आयाम IS 5405 के तहत निर्धारित नियमो का पालन करते हैं तो पैड उपयोग के लिए समझा जाता है, अन्यथा वे अस्वीकार कर दिए गए हैं।

  • परिष्करण का परीक्षण:

सैनिटरी पैड की एक चिकनी सतह होनी चाहिए और कोई भी झुर्रियाँ और सिलवटें नहीं होनी चाहिए जो सतह को असमान बनाये हैं। पैड की सतह नरम और आरामदायक महसूस करनी चाहिए और त्वचा को किसी भी जलन का कारण नहीं होना चाहिए। पैड को इकट्ठा करने के लिए चिपकाने वाले पदार्थो को केवल सही जगह चिपकना चाहिएं। पैड की सतह को चिकनी बनाने के लिए शोषक फिलर्स को भी समान दूरी पर रखा जाना चाहिए।

  • शोषक के परीक्षण:

टेस्ट में अवशोषक पर तरल पदार्थों के अधीन करके आयोजित किया जाता है। यदि वे लीक के बिना पर्याप्त रूप से सोख सकते हैं, तो उन्हें उपयोग के लिए अच्छा माना जाता है।

  • डिस्पोजेबिलिटी का परीक्षण:

डिस्पोजेबल सामग्री से सॅनिटरी पैड बनाया जाना चाहिए इसके लिए उन्हें 15 लीटर पानी के कंटेनर में डाल दिया जाता है और उन्हें हिलाया जाता है। डिस्पोजेबल पैड विघटित हो जाते हैं, जब उनका परीक्षण किया जाता है।

  • pH मान का परीक्षण:

स्वच्छता पैड तटस्थ pH मान का होना चाहिए; वे न तो अम्लीय और न ही क्षारीय होना चाहिएI इसके लिए उन्हें pH मूल्य निर्धारित करने के लिए जांचा जाता है।

आईएस 5405 के अनुसार इन मापदंडों पर सैनिटरी पैड का परीक्षण करना यह सुनिश्चित कर सकता है कि बिना किसी परेशानी, जलन या लिक किए बिना वे अपने उद्देश्य को पूरा सुनिश्चित कर सकते हैं।

Want to speak to our Customer Care Executive?

Just Submit Your Contact Details and We’ll be get in Touch With You Shortly.